Type Here to Get Search Results !

Dosti Shayari : Dosti Shayari in Hindi - दोस्ती शायरी- dosti shayari in hindi 2022- dosti shayari images

0

Dosti Shayari : Dosti Shayari in Hindi - दोस्ती शायरी- dosti shayari in hindi 2022- dosti shayari images

 


लोग रूप देखते है ,हम दिल देखते है ,

लोग सपने देखते है हम हक़ीकत देखते है,

लोग दुनिया मे दोस्त देखते है,

हम दोस्तो मे दुनिया देखते है.


 👭👬


करो कुछ ऐसा दोस्ती में

की ‘Thanks & Sorry’ words बे-ईमान लगे

निभाओ यारी ऐसे के ‘यार को छोड़ना मुश्किल’

और दुनिया छोड़ना आसान लगे…


👫👫

इश्क़ और दोस्ती मेरी ज़िन्दगी के दो जहाँ है

इश्क़ मेरा रूह तो दोस्ती मेरा इमां है

इश्क़ पे कर दूँ फ़िदा अपनी ज़िन्दगी

मगर दोस्ती पे तो मेरा इश्क़ भी कुर्बान है

👫👫



इश्क ओर दोस्ती मेरे दो जहान है,

इश्क मेरी रुह, तो दोस्ती मेरा ईमान है,

इश्क पर तो फिदा करदु अपनी पुरी जिंदगी,

पर दोस्ती पर, मेरा इश्क भी कुर्बान है

👫👫


दिल मे एक शोर सा हो रहा है.

बिन आप के दिल बोर हो रहा है.


बहुत कम याद करते हो आप हमे.

कही ऐसा तो नही की…


ये दोस्ती का रिस्ता कंज़ोर हो रा है.


👫👫


मौत एक सच्चाई है उसमे कोई ऐब नहीं

क्या लेके जाओगे यारों कफ़न में कोई जेब नहीं

👫👫




आँखों से बरसात होती हैं

जब आपकी याद साथ होती है,

जब भी busy रहे मेरा cell

तो समझ लेना

आपकी होने वाली भाभी से मेरी बात होती हैं

👫👫



घर से बाहर कोलेज जाने के लिए वो नकाब मे निकली….

सारी गली उनके पीछे निकली…


इनकार करते थे वो हमारी मोहबत से……….

और हमारी ही तसवीर उनकी किताब से निकली………

👫👫



कोई खुशियों की चाह में रोया

कोई दुखों की पनाह में रोया..

अजीब सिलसिला हैं ये ज़िंदगी का..

कोई भरोसे के लिए रोया..

कोई भरोसा कर के रोया..

👫👫



वक्त बदल जाता है जिंदगी के साथ

जिंदगी बदल जाती है वक्त के साथ


वक्त नहीं बदलता दोस्तों के साथ

बस दोस्त बदल जाते हैं वक्त के साथ

👫👫



उस जैसा मोती पूरे समंद्र में नही है,

वो चीज़ माँग रहा हूँ जो मुक़्दर मे नही है,


किस्मत का लिखा तो मिल जाएगा मेरे ख़ुदा,

वो चीज़ अदा कर जो किस्मत में नही है…

👫👫



गुलाम बनकर जिओगे तो.

कुत्ता समजकर लात मारेगी तुम्हे ये दुनिया

नवाब बनकर जिओगे तो,

सलाम ठोकेगी ये दुनिया….

👫👫




“दम” कपड़ो में नहीं,

जिगर में रखो…


बात अगर कपड़ो में होती तो, सफ़ेद कफ़न में,

लिपटा हुआ मुर्दा भी “सुल्तान मिर्ज़ा” होता.

👫👫



हर रिश्ते में विश्वास रहने दो;

जुबान पर हर वक़्त मिठास रहने दो;

यही तो अंदाज़ है जिंदगी जीने का;

न खुद रहो उदास, न दूसरों को रहने दो..!

👫👫

इश्क़ और दोस्ती मेरी ज़िन्दगी के दो जहाँ है

इश्क़ मेरा रूह तो दोस्ती मेरा इमां है

इश्क़ पे कर दूँ फ़िदा अपनी ज़िन्दगी

मगर दोस्ती पे तो मेरा इश्क़ भी कुर्बान है

Post a Comment

0 Comments